Share Market क्या है ?


प्राचीन इतिहास :- 12 वी शताब्दी के फ्रांस में, बैंको के द्वारा Agriculture Community को ऋण दिया जाता था, लेकिन यह पैसा वह खुद अपने पास न रखकर उस समय के दरबारियों के पास रख देते थे, जिससे उन दरबारियों ने उन पैसो से ब्यापार(Trade) किया, इसी कारण उन्हें पहला दलाल (Broker एक व्यक्ति या Platform या कोई कंपनी भी हो सकती है, जो Transaction को निष्पादित करती है और खरीदार और बिक्रेता के कमीशन की व्यवस्था करती है ,एक दलाल एक खरीदार या बिक्रेता भी हो सकता है जो एक खास पक्ष के तरफ से काम करता है) कहा  जाता है

13 वी शताब्दी के मध्य में Commodity Traders, Van De Beurze नामक के एक घर के अंदर इकठ्ठा हुए और Brugse Beurse बन गए जो तब तक, जब तक थी, कायम रहा। Antwerp में Van De Beurze की एक ईमारत थी, जहा पर उन सभी Meeting का आयोजन हुआ था। उस समय अधिकांश Traders का Trading स्थान वही था। यह Idea, Flanders और पडोसी देशो में तेजी से फैल गया और इसके बाद Ghent and Rotterdam में Beurzen नामक Stock Market खुल गया। 13 वी शताब्दी के मध्य में Venetian (विनिमय) बैंकरों ने Government Securities में Trade करना शुरू किया। 1351 ई० में Venetian Government ने सरकारी धन की कीमत काम करने के इरादों से अफवाह फैला दी और व्यापर बंद हो गया

14 वी शताब्दी के दौरान Pisa, Verona, Genoa, और Florence में भी बैंकरो ने Government Security में Trade करना शुरू किया। यह  इसलिए शुरू हुआ क्योकि  ये स्वतंत्र थे, और प्रभावशाली नागरिको(Influential Citizens) की एक परिषद थी, जो इससे जुडी हुई थी। Italian कम्पनियाँ भी शेयर जारी करने वाले में से पहले में जाने जाते है। 
16 वी शताब्दी में एक संयुक्त स्टॉक कंपनी (Joint Stock Company) मार्केट में आई, जिसका शेयर शेयरधारकों के पास मौजुद थे, जो कि "New World" नामक यूरोपीय लोगो के हित में उभरा और महत्वपूर्ण हो गया

1611 ई० में दुनिया का पहला महत्वपूर्ण Stock - Exchange एमस्टर्डम (Amsterdam) में बना। 

Share Market
शेयर मार्केट दो शब्दों से मिलकर बना है

Share + Market :- Share का मतलब हिस्सा और Market का मतलब बाजार इसका अर्थ है कि वह जगह जहा हम अपने हिस्से का खरीद बिक्री करते हैं  उसे ही Share Market कहते हैं 

जो कम्पनियाँ SEBI (Security of Exchange Board of India) में Listed हैं वह कंपनी Share बाजार में सूचीबद्ध होती हैं। भारत में मुख्यतः दो Stock Market हैं। पहला BSE (Bombay Stock Exchange) जो Dalal Street, Mumbai में है। तथा दूसरा NSE (National Stock Exchange) वह भी Mumbai में स्थित है  


Share market एक Adventure की तरह है, अगर इसमें उतार- चढ़ाव नहीं में तो शेयर बाजार का मतलब ही कुछ नहीं

अब आपको समझना होगा Sensex और Nifty का मतलब क्या होता है?
Sensex
Bombay Stock Exchange का एक ऐसा Index होता हैं, जो Top 30 कंपनियों के Performance पर बिश्लेषण करता है, और उसका Measure Value, Sensex के माध्यम से हमारे सामने प्रस्तुत करता  है  ये ३० कम्पनिया अलग  अलग Sector की बड़ी कम्पनिया होती है  Sector का मतलब Banking, Auto-Industries, Energy, Finance, Health Service, Electronic, Communications etc.

Bombay Stock Exchange की शुरुआत Year 1978 -1979 के बीच किया गया था और इसका Base Value 100 रखा गया था। अभी बर्तमान में(28-08-2020)  Sensex का Value 39,113.47 हैं
 
Nifty
Nifty 50, National Stock Exchange of India Ltd(NSE) का यह सूचकांक है यह सूचकांक 50 कंपनियों के पोर्टफोलियो के व्यवहार को  Track करता है,  इसमें 1600+  क्या शामिल है जिसमें NSE के Nifty में
अधिकतम 50  कंपनियां शामिल होते हैं इसके अलावा और भी  कंपनियां Trade  तो करती हैं, लेकिन Nifty  का मान इन 50  कंपनियों  के Performance पर ही आधारित होता है NSE, BSE के मुकाबले ज्यादा Trade करता है NIFTY  लगभग  तैरती हुई बाजार पूंजीकरण का 65%   भाग पर अपना व्यापार करती है NIFTY 50  भारतीय अर्थव्यवस्था के लगभग सभी Sector को कवर  करता है तथा प्रबंधकों को निवेश प्रदान करता है NIFTY 50 की शुरुआत या स्थापना  अप्रैल 1996  को हुई थी तथा इसका Measure Base Value 1000 रखा गया था अभी यह 11,647.6 पर Marketing  कर रहा है

Nifty का स्वामित्व तथा प्रबंधन NSE Indices Limited के द्वारा किया जाता है Nifty 50 Economic Research से और यह निवेश(Investing)  और  व्यापार(Trading) में रुचि रखने वालों  के लिए बनाया गया है

Nifty 50 में  शामिल होने की योग्यता:-

NSE के द्वारा शामिल Nifty 100 जो Future & Option Segment  के लिए व्यापार करता है  वह भविष्य में इन Index  भी शामिल होने की योग्यता रखता है





Comments